दिल्ली/नोएडाराज्य

शाहीन बाग बना कोरोना का नया हॉटस्पॉट, अब दिल्ली में 60 क्लस्टर एरिया

Spread the love

 
नई दिल्ली 

 नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ प्रदर्शन के कारण सुर्खियों में आया दिल्ली का शाहीन बाग अब कोरोना का नया हॉटस्पॉट बनता जा रहा है. बीते 24 घंटे के अंदर दिल्ली में कोरोना के 62 नए मामले सामने आए हैं. इसके बाद दिल्ली सरकार ने कोरोना क्लस्टर एरिया को बढ़ाकर अब 60 कर दिया है.

गुरुवार को जिन इलाकों को क्लस्टर एरिया की लिस्ट में शामिल किया गया है, उसमें शाहीन बाग, अबुल फजर एंक्लेव के पास की गली और शाहदरा में ईस्ट राम नगर के कुछ हिस्से भी हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के 60 इलाकों को सील किया जा चुका है. इसके अलावा ऑपरेशन शील्ड को भी प्रभावित इलाकों में लागू किया गया है.
 
24 घंटे में 62 नए मामले

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, राजधानी दिल्ली में अब तक 1640 मामले सामने आ चुके हैं और 38 लोगों की मौत हो चुकी है. पिछले 24 घंटे के अंदर 62 नए मामले सामने आए हैं और 6 लोगों की मौत हुई है. दिल्ली में दो दिनों तक नए मामलों में कमी के बाद गुरुवार को फिर से उछाल देखा गया है.
 
और दो इलाकों में ऑपरेशन शील्ड सफल
इस बीच केजरीवाल सरकार का ऑपरेशन शील्ड दो और हॉटस्पॉट इलाकों में सफल रहा है. पूर्वी दिल्ली के ये इलाके हैं वसुंधरा एनक्लेव और खिचड़ीपुर. दोनों ही जगहों को 31 मार्च को सील किया गया था, जिसके बाद पिछले 15 दिनों में यहां कोई भी कोविड-19 का मरीज नहीं मिला है.

वसुंधरा एनक्लेव के मनसारा अपार्टमेंट में एक कोरोना संक्रमित पाया गया था, जिसके चलते इसे हॉटस्पॉट घोषित कर सील कर दिया गया था. पॉजिटिव घोषित होने से पहले इस संक्रमित ने अपार्टमेंट की तमाम कॉमन सुविधाओं का उपयोग किया था, जिसके चलते डर था कि उसी अपार्टमेंट के और लोग भी संक्रमण की चपेट में न आ जाएं.

इसके बाद दिल्ली सरकार ने हरकत में आते हुए इसके बाद अपार्टमेंट के 188 घरों की जांच की. इसके अलावा खिचड़ीपुर की तीन गलियों में भी दो कोरोना संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद 31 मार्च को इलाके को सील कर दिया गया था. यहां भी स्वास्थ्य विभाग ने 398 घरों की जांच की. दोनों ही जगहों पर ऑपरेशन शील्ड के सभी पहलुओं को लागू किया गया.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close