देश

लॉकडाउन में आधी रात बॉर्डर पर फंसी युवती, सीएम ने सुरक्षित भिजवाया घर

Spread the love

 
तिरुवनंतपुरम 

लॉकडाउन की वजह से कई लोग अभी भी देश के अलग-अलग हिस्से में फंसे हुए हैं. लॉकडाउन के कारण केरल-कर्नाटक बॉर्डर पर फंसी अतिरा शजी ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया है. जिसमें उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री के बारे में जिक्र करते हुए लिखा है कि कैसे मुख्यमंत्री पिनाराई ने केरल के नागरिकों को लाने के लिए हस्तक्षेप किया.

अतिरा ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है उस दिन केरल के 14 लोग कर्नाटक-केरल बॉर्डर पर फंसे थे, जिसमें 13 महिलाएं थीं और उनमें एक मैं भी थी. अतिरा ने पोस्ट में ये भी जिक्र किया है कि वो केरल के कालीकट जिले की निवासी हैं. अतिरा ने लिखा, बॉर्डर पर फंसे होने की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री ने हस्तक्षेप करते हुए हमें वापस बुला लिया.
 
आतिरा ने लिखा कि वो अपने सहयोगियों के साथ टीसीएस में काम करने बाद 24 मार्च की सुबह केरल लौटने का फैसला किया. उन्होंने हैदराबाद से एक ट्रैवलर बुक किया. 24 मार्च की रात जब वो कर्नाटक-केरल के बॉर्डर तक पहुंची थी तभी देशव्यापी लॉकडाउन लागू हो गया.
 
तब वाहन चालक ने कहा कि वो केरल में एंट्री नहीं ले सकते हैं इसलिए उन्हें कर्नाटक बॉर्डर उतार देंगे. अतिरा जब बॉर्डर पर पहुंची तो सुबह का 1 बज रहा था. अतिरा ने फेसबुक पोस्ट में लिखा तब वो काफी चिंतित थीं और जैसे भी हो घर पहुंचना चाहती थीं.

पोस्ट में लिखा, फिर मैंने गुगल से मुख्यमंत्री का नंबर निकाला और फोन लगा दिया. सीएम ने फोन उठा भी लिया. मैंने उन्हें फंसे होने की जानकारी दी. ये सुनकर सीएम ने उन्हें कहा कि बच्चे आपको घबराने की जरूरत नहीं, आप सुरक्षित घर पहुंच जाएंगी, आपको मदद दी जाएगी. फिर उन्होंने मुझे वायनाड के कलेक्टर और एसपी का नंबर दिया और कॉल करने को कहा.
 
इसके बाद स्थानीय सीआई के साथ एसपी ने हम सभी फंसे 14 लोगों को वाहन से हमें हमारे घर भेजा. घर पहुंचने के बाद हमने उन्हें सुरक्षित पहुंच जाने की जानकारी दी. अब हम सभी 14 लोग होम आइसोलेशन में हैं.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close