देश

लॉकडाउन का पालन सख्ती से हो तो हार जाएगा कोरोना वायरस: ICMR का दावा

Spread the love

नई दिल्ली 
पूरी दुनिया के साथ ही भारत में भी कोरोना वायरस महामारी अपना विकराल रूप लेती जा रही है. देश में हर दिन बड़ी स्पीड से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है, साथ ही कोरोना पॉजिटिव लोगों की मौत का ग्राफ भी हर रोज बढ़ रहा है.

कोरोना से इस लड़ाई के बीच देश के 548 जिलों में लॉकडाउन लागू कर दिया गया है. लोगों से घरों में रहने की अपील की जा रही है. ICMR (Indian Council Of Medical Research) की एक ताजा स्टडी में दावा किया गया है कि अगर सख्ती से घरों में रहने का ये फॉर्मूला सफल हो जाए तो कोरोना को बहुत हद तक हराया जा सकता है.

भारत में कोरोना वायरस अभी स्टेज 2 पर है और तीसरे स्टेज की ओर बढ़ रहा है. इस स्टेज में कोरोना कम्यूनिटी स्प्रेड होता है. यानी कोरोना वायरस का सामुदायिक संक्रमण. अगर ये होने लगा तो हालात बेकाबू हो जाएंगे.

स्टडी में क्या दावा

ऐसी हर मुमकिन खतरे को भांपते हुए केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारें सख्त हो गई हैं. लॉकडाउन और कर्फ्यू का रास्ता अपनाया जा रहा है ताकि लोग एक-दूसरे के टच में न आ सकें. ICMR की ताजा स्टडी भी इसी ओर इशारा कर रही है कि अगर सख्ती के साथ क्वारंटीन, होम स्टे जैसे फॉर्मूले को अपना लिया जाए तो इस वायरस के अनुमानित संदिग्ध केसों में 62 प्रतिशत तक गिरावट आ सकती है. साथ ही पीक केसों की संख्या 89 प्रतिशत तक गिर सकती है.
 
ऐसे में ये जरूरी है कि सरकार ने लॉकडाउन का जो रास्ता अपनाया है उस पर पूरी तरह अमल किया जाए. दुनिया के दूसरे देशों से अब तक जो खबरें आई हैं उसमें यही सामने आया है कि जिन देशों ने होम क्वारंटीन और लॉकडाउन समय रहते अपनाया वहां कोरोना वायरस अपनी जड़ नहीं जमा पाया. सिंगापुर, हांगकांग और दक्षिण कोरिया इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं. WHO ने भी लॉकडाउन के साथ प्रॉपर टेस्टिंग और संक्रमितों की पहचान को ही बड़ा बचावा माना है. अब भारत भी इसी रास्ते पर है. ऐसे में जनता के सहयोग से कोरोना को हराया जा सकता है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close