छत्तीसगढ़

बिलासपुर स्टेशन में फंसे थे केरल के 200 मजदूर और यात्री, प्रशासन ने ऐसे की मदद

Spread the love

बिलासपुर
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर रेलवे स्टेशन (Bilapsur Railway Station) में फंसे मजदूरों की वापसी में पुलिस और प्रशासन ने बड़ी मदद की है. कोरोना वायरस (Corona Virus) की वजह से ट्रेन रद्द है. इस वजह से कई राज्यों के मजदूर बिलासपुर रेलवे स्टेशन में फंस गए थे. जानकारी मिलने के बाद प्रशासन ने सभी का स्वास्थ्य परीक्षण कर वापसी के इंतजाम किए.

दरअसल, रेलवे के लॉकडाउन के कारण अलग-अलग प्रदेशों के लगभग 200 मजदूर और यात्री बिलासपुर रेलवे स्टेशन में फंस गए. सभी एर्नाकुलम एक्सप्रेस (Ernakulam Express) से देर रात बिलासपुर स्टेशन पहुंचे थे लेकिन लॉकडाउन (Lock Down) होने के कारण आगे जाने के लिए इन्हें ट्रेन और बस की कोई सुविधा नहीं मिली. जानकारी के मुताबिक सभी यात्री केरल (Kerala) से आये हुए थे, लिहाजा इन्हें लेकर एहतियात भी बरता की जरूरत थी.

मुख्मंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर सभी यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण के साथ स्क्रीनिंग कर गंतव्य तक भेजने की व्यवस्था प्रशासन ने की. बताया जा रहा है कि जो मजदूर यात्री स्टेशन में फंसे हुए थे उनमें झारखंड, बिहार, असम, बंगाल, ओडिशा,नेपाल सहित अन्य प्रदेशों के यात्री शामिल थे. मालूम हो कि ट्वीट के जरिए झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सूबे के मुखिया भूपेश बघेल से यात्रियों के झारखंड आने के लिए व्यवस्था मुहैया कराने की अपील की थी. इसके बाद सीएम बघेल ने व्यवस्था बनाकर सभी यात्रियों को झारखंड भेजने की जानकारी दी थी.

जिला प्रशासन और रेलवे की टीम ने झारखंड के करीब 139 यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें बस से झारखंड के लिए रवाना किया. इसके अलावा अन्य प्रदेशों से आए यात्रियों को भी उनके गंतव्य तक भेजने की व्यवस्था बनाई की गई. यात्रियों ने बताया कि 3 दिन से वे भूखे-प्यासे सफर कर रहे थे. मंगलवार रात से स्टेशन में फंसे थे, अब जाकर उन्हें खाने के साथ अपने गंतव्य तक जाने की सुविधा मिली है.

एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि करीब 200 मजदूर और यात्री जो अलग-अलग प्रदेशों से आये थे, उन्हें व्यवस्था बनाकर गंतव्य के लिए रवाना किया गया है. एहतियातन सभी की स्क्रीनिंग और स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया है.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close