विदेश

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में जीत दिला सकती हैं 69 दवाएं: शोधकर्ता

Spread the love

 
वाशिंगटन

कोरोना के कहर से दुनिया बेहाल नजर रही है। विश्‍वभर में पौने 4 लाख लोग इस महामारी से संक्रमित हो गए हैं जबकि 16500 से ज्‍यादा लोगों की अब तक मौत हो गई है। हालांकि अब तक एक लाख ऐसे भी लोग हैं जो इस बीमारी से उबर चुके हैं। इस महामारी से निपटने के लिए शोधकर्ताओं ने अब 69 दवाओं और प्रयोगिक मिश्रण का पता लगाया है जो कोराना वायरस के इलाज में प्रभावी हैं।
शोधकर्ताओं की एक टीम ने रविवार रात को इसकी जानकारी दी। इनमें से कुछ दवाओं का इस्‍तेमाल पहले ही अन्‍य बीमारियों के इलाज में किया जा रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि जिन दवाओं का इस्‍तेमाल पहले ही किया जा रहा है, उनको तेजी से आसानी से बनाया जा रहा है, इसकी बजाय कि नई दवा की तत्‍काल खोज की जाए।

'कोरोना वायरस के जीन्‍स का अध्‍ययन'
वैज्ञानिकों ने इस दवाओं के नाम वेबसाइट bioRxiv पर प्रकाशित किए गए हैं। इस लिस्‍ट को बनाने से पहले सैकड़ों शोधकर्ताओं ने कोरोना वायरस के जीन्‍स का अध्‍ययन किया। इंसान के फेफड़े को संक्रमित करने के लिए कोरोना वायरस को अपने जीन को अंदर ले जाना पड़ता है। कोरोना की कोशिकाएं वायरल की प्रोटीन बनाती हैं जिससे करोड़ों की संख्‍या में नए वायरस पैदा होते हैं।

नए अध्‍ययन में वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के 29 में से 26 जीन्‍स का अध्‍ययन किया जो सीधे तौर पर वायरल प्रोटीन का निर्माण करते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि 332 इंसानी प्रोटीन पर कोरोना वायरस हमला करता है। शोधकर्ताओं ने 24 ऐसी दवाओं की पहचान की हैं जिसे अब तक कैंसर, पार्किंसन और हाइपरटेंशन के इलाज के लिए अब तक दिया जाता रहा है। इस नए शोध के बाद अब कोरोना वायरस के इलाज के साइड इफेक्‍ट को कम किया जा सकता है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close