जबलपुरमध्य प्रदेश

आर्मी बेस वर्कशॉप में ब्लास्ट, एक जवान शहीद, तीन अन्य घायल

Spread the love

जबलपुर
मध्य प्रदेश के जबलपुर (Jabalpur) में एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां की GCF फैक्ट्री में ब्लास्ट हुआ है. इस हादसे में एक आर्मी के जवान की जान चली गई. वहीं, तीन सुरक्षाकर्मी घायल हो गए हैं. इनमें से एक की हालत गंभीर बनी हुई है. घायलों का मिल्ट्री अस्पताल में इलाज चल रहा है. सूत्रों के मुताबकि, सुरक्षा संस्थान 506 आर्मी बेस वर्कशॉप स्थित GCF फैक्ट्री के गन रिपेयर सेक्शन में नाइट्रोजन गैस सिलेंडर में ब्लास्ट (Blast) होने से यह हादसा हुआ है.

जबलपुर जिले के खमरिया क्षेत्र स्थित 506 आर्मी बेस वर्कशाप में आज दोपहर को यह हादसा हुआ है. सूत्रों की माने तो वर्कशॉप के एआरजी सेक्शन में चल रही ड्रिल के दौरान 130 एमएम तोप का रिकॉल सिलेंडर गिरने से उसमें ब्लास्ट हो गया. नाइट्रोजन गैस से भरे सिलेंडर की चपेट में आने से एक सैन्य जवान की घटना स्थल पर ही मौत हो गई. वहीं, तीन जवान घायल हो गए. हालांकि, सैन्य अधिकारी अभी इस मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है जिसके चलते हादसे की अधिकारिक पुष्टि अभी नहीं हो सकी है.

घटना की जानकारी मिलने पर कर्मचारी संगठनों में खासा आक्रोश देखने को मिल रहा है. ऑल इंडिया डिफेंस एम्पलाइज़ फेडरेशन के पदाधिकारियों और अन्य संगठनों ने 506 आर्मी बेस वर्कशाॅप के कमांडेंट ब्रिगेडियर मनोज कुमार को घटना का ज़िम्मेदार माना है. उनके मुताबिक, एक ओर देश के प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री ने कोरोना के चलते सभी इकाईयों को बंद करने के निर्देश दिए थे फिर अचानक कैसे आनन- फानन मे वर्कशाॅप में काम शुरू करवा दिया गया.

बता दें कि इससे पहले बीते 19 मार्च को केंद्रीय सुरक्षा संस्थान ओएफके (OFK) में भीषण हादसा हो गया था. फैक्ट्री के सेक्शन एफ 2 की बिल्डिंग नंबर 147 में आग लगने से भीषण विस्फोट हो गया और फिर पूरी  बिल्डिंग उड़ गई थी. तब बताया जा रहा था कि जिस समय ये विस्फोट हुआ है उस दौरान सेक्शन और बिल्डिंग में कोई कर्मचारी नहीं था.

ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया के एफ 2 सेक्शन की बिल्डिंग नम्बर 147 मेंं 19 मार्च की रात को भीषण आग लगने से पूरी तरह खाक हो गयी थी. सूत्रों के मुताबिक, आग यहां पर स्क्रेप बमों के सेक्शन में रखे मैंगनीज पाउडर में लगी थी जो पूरी इमारत में फैल गयी थी.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close